Raat Kali Ek Khwab Mein Song Lyrics From Movie Buddha Mil Gaya (1971)


Raat Kali Ek Khwab Mein Song Lyrics From Movie Buddha Mil Gaya (1971)
Raat Kali Ek Khwab Mein - Buddha Mil Gaya (1971) LYRICS 


Movie: Buddha Mil Gaya (1971) Song: Raat Kali Ek Khwab Mein Aayee Starcast: Navin Nischol, Archana Singers: Kishore Kumar Music Director: R D Burman Lyrics: Majrooh Sultanpuri

ORIGINAL VIDEO



KARAOKE VIDEO




LYRICS


ENGLISH


Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi.aur Gale Ka Haar Hui-2

Subah Ko Jab Hum Neend Se Jaage

Aankh Tumhise Chaar Hui

Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi.aur Gale Ka Haar Hui

Chahe Kaho Ise Meri Mohabbat.
Chahe Hasi Mein Uda Do
Yeh Kya Hua Mujhe Mujhko Khabar Nahin
Ho Sake Tum Hi Bata Do
Chahe Kaho Ise Meri Mohabbat.
Chahe Hasi Mein Uda Do

Yeh Kya Hua Mujhe Mujhko Khabar Nahin
Ho Sake Tum Hi Bata Do
Tumne Kadam Jo Rakha Zameen Par
Seene Mein Kyun Jhankar Hui
Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi.aur Gale Ka Haar Hu

Yoon To Haseenon Ke Mahjabeenon Ke

Hote Hain Roz Nazare
Par Unhe Dekhke Dekha Hai Jab Tumhe
Tum Lage Aur Bhi Pyare
Yoon To Haseenon Ke Mahjabeenon Ke
Hote Hain Roz Nazare
Par Unhe Dekhke Dekha Hai Jab Tumhe
Tum Lage Aur Bhi Pyare
Bahon Mein Le Loon Aisi Tamanna
Ek Nahin Kai Baar Hui
Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi.aur Gale Ka Haar Hui
Subah Ko Jab Hum Neend Se Jaage
Aankh Tumhise Chaar Hui
Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi.aur Gale Ka Haar Hui

HINDI

रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई
सुबोह को जब हम नींद से जागे, आँख तुम्ही से चार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई
चाहे कहो इसे, मेरी मोहब्बत, चाहे हँसीं में उड़ा दो

ये क्या हुआ मुझे, मुझको खबर नहीं, हो सके, तुम ही बता दो
चाहे कहो इसे, मेरी मोहब्बत, चाहे हँसीं में उड़ा दो

ये क्या हुआ मुझे, मुझको खबर नहीं, हो सके, तुम ही बता दो

तुमने कदम तो, रखा ज़मीं पर, सीने में क्यों झंकार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई और गले का हार हुई
आँखों में काजल और लटों में, काली घटा का बसेरा

साँवली सूरत, मोहनी मूरत, सावन रुत का सवेरा
आँखों में काजल और लटोंमें, काली घटा का बसेरा

साँवली सूरत, मोहनी मूरत, सावन रुत का सवेरा

जबसे ये मुखड़ा, दिल मे खिला है, दुनिया मेरी गुलज़ार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई और गले का हार हुई
यूँ तो हसीनों के, माहजबीनों के, होते हैं रोज़ नज़ारे

पर उन्हें देख के, देखा है जब तुम्हें, तुम लगे और भी प्यारे
यूँ तो हसीनों के, माहजबीनों के, होते हैं रोज़ नज़ारे

पर उन्हें देख के, देखा है जब तुम्हें, तुम लगे और भी प्यारे

बाहों में ले लूँ, ऐसी तमन्ना, एक नहीं, कई बार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई

सुबोह को जब हम नींद से जागे, आँख तुम्ही से चार हुई

रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई
Previous Post Next Post